PM मोदी ‘मिलेट्स’ ग्‍लोबल कॉन्‍फ्रेंस में बोले- फूड सेफ्टी की चुनौतियों से न‍िपटने में मददगार बनेगा ‘मोटा अनाज’, डाक ट‍िकट-स‍िक्‍का जारी क‍िया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को कहा कि मोटा अनाज खाद्य सुरक्षा के साथ-साथ खान-पान संबंधी आदतों से जुड़ी चुनौतियों से निपटने में मददगार साबित हो सकता है. उन्होंने कृषि वैज्ञानिकों से देश की खाद्य टोकरी में इन पोषक अनाजों की हिस्सेदारी बढ़ाने की दिशा में काम करने को कहा. पीएम मोदी ने आज नई दिल्ली में होने वाली ग्लोबल मिलेट्स (Global Millets Conference) कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन क‍िया.

प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली के इंडियन एग्रीकल्चर रिसर्च सेंटर ( IARI) कैंपस में आयोजित कॉन्फ्रेंस के उद्घाटन अवसर पर अंतरराष्‍ट्रीय मिलेट्स वर्ष 2023 (International Year of Millets 2023) पर एक डाक टिकट और सिक्के (Postage Stamps and Coins) का अनावरण भी किया. प्रधानमंत्री ने बायर सेलर मीट और प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया है.

वैश्विक अन्न सम्मेलन के उद्घाटन के बाद पीएम मोदी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि देश के लिए यह बड़े सम्मान की बात है कि भारत के प्रस्ताव और प्रयासों के बाद संयुक्त राष्ट्र ने 2023 को अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष घोषित किया

मोदी ने कहा कि भारत मोटे अनाज या अन्न को वैश्विक स्तर पर बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयासरत है. उन्होंने कहा कि मोटा अनाज प्रतिकूल जलवायु परिस्थितियों में और रसायनों एवं उर्वरकों का इस्तेमाल किए बिना आसानी से उगाया जा सकता है.

Addressing the Global Millets (Shree Anna) Conference in Delhi. Let us make the ‘International Year of Millets’ an enormous success. https://t.co/KonmfdQRhP

— Narendra Modi (@narendramodi) March 18, 2023

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के मोटा अनाज मिशन से 2.5 करोड़ लघु एवं सीमांत किसानों को लाभ होगा. उन्होंने कहा क‍ि राष्ट्रीय खाद्य टोकरी में आज मोटा अनाज की हिस्सेदारी केवल 5-6 फीसदी है.